Kaleesiya gairfaanee Lyrics / कलीसिया ग़ैरफ़ानी

Kaleesiya gairfaanee Lyrics | कलीसिया ग़ैरफ़ानी | Hindi Christian Song Lyrics

Kaleesiya gairfaanee
buniyaad masih masloob
aab aur qalaam se banee
voh naee khilaqat khoob
aasmaan se us ne aake
chun liya dulhan ko
aur apna khoon baha ke
khareeda hai usako

Har qaum ke beech hai shaahid
voh baraguzeeda jaat
vilaadat ek, rabb vaahid
eemaan ek, ek najaat
khuraaq ek, ek mubaaraq
naam us mein hai maaroof
ummed mein bhee mushaarik
har fazal se mausoof

Ab dikkat aur mashakkat
aur jang mein jo dushvaar
voh kartee qaamil raahat
aur chain ka intizaar
tab qaamil hai khush-haalee
ki jang tab hai tamaam
kaleesiya e jalaalee
tab hotee pur aaraam

Par yahaan bhee Khuda se
rifaaqat hai usakee
sohabat sheereen aasamaan ke
muqaddason se bhee
hamen taufeeq aur taaqat
bakhsh de ya rabb raheem
ho hum is khush rifaaqat
aur mel mein mustakeem

कलीसिया ग़ैरफ़ानी
बुनियाद मसीह मसलूब
आब और क़लाम से बनी
वह नई ख़िलक़त ख़ूब
आसमान से उस ने आके
चुन लिया दुलहन को
और अपना ख़ून बहा के
ख़रीदा है उसको

हर क़ौम के बीच है शाहिद
वह बरग़ुज़ीदा जात
विलादत एक, रब्ब वाहिद
ईमान एक, एक नजात
ख़ुराक़ एक, एक मुबारक़
नाम उस में है मारूफ़
उम्मेद में भी मुशारिक
हर फ़ज़ल से मौसूफ़

अब दिक्कत और मशक्कत
और जंग में जो दुशवार
वह करती क़ामिल राहत
और चैन का इन्तिज़ार
तब क़ामिल है ख़ुश-हाली
कि जंग तब है तमाम
कलीसिया ए जलाली
तब होती पुर आराम

पर यहाँ भी ख़ुदा से
रिफ़ाक़त है उसकी
सोहबत शीरीन आसमान के
मुक़द्दसों से भी
हमें तौफ़ीक़ और ताक़त
बख़्श दे या रब्ब रहीम
हो हम इस खुश रिफ़ाक़त
और मेल में मुस्तकीम

Leave a Comment